online story in hindi – हर किसी पर आंख मूंदकर विश्वास न करें

Posted on
online story in hindi
online story in hindi

online story in hindi – दोस्तों आज की इस पोस्ट में हम आपको इस युग की कड़वी सच्चाई से अवगत करने हेतु आपके लिए एक कहानी लेके आये है अगर आपको कहानी पसंद आये तो किर्पया इस पोस्ट को अपने परिवार के सदस्यों के साथ जरूर शेयर करें।

लोमड़ी और बकरी

एक समय की बात है, एक लोमड़ी घूमते-घूमते एक कुएं के पास पहुंच गई। कुएं की जगत नहीं थी। उधर, लोमड़ी ने भी इस और ध्यान नहीं दिया। परिणाम यह हुआ कि बेचारी लोमड़ी कुएं में गिर गई।

कुआं अधिक गहरा तो नहीं था, परंतु फिर भी लोमड़ी के लिए उससे बाहर निकलना सम्भव नहीं था। लोमड़ी अपनी पूरी शक्ति लगाकर कुएं से बाहर आने के लिए उछल रही थी, परंतु उसे सफलता नहीं मिल रही थी। अंत में लोमड़ी थक गई और निराश होकर एकटक ऊपर देखने लगी कि शायद उसे कोई सहायता मिल जाए।

लोमड़ी का भाग्य देखिए, तभी कुएं के पास से एक बकरी गुजरी। उसके कुएं के भीतर झांका तो लोमड़ी को वहां देखकर हैरान रह गई।

online story in hindi

बकरी बोली- “नमस्ते, लोमड़ी जी! आप यह कुएं में क्या कर रही हो?”

लोमड़ी ने उत्तर दिया- “नमस्ते, बकरी जी! मुझे यहां कुएं में बहुत मजा आ रहा है।”

बकरी बोली- अच्छा! बहुत प्रसन्नता हुई यह जानकर। “आखिर बात क्या है?”

लोमड़ी बड़ी चतुरता से बोली- “यहां की घास अत्यन्त स्वादिष्ट है।”

बकरी आश्चर्य से बोली- “मगर तुम कब से घास खाने लगी हो?

”तुम्हारा कहना ठीक है। मैं घास नहीं खाती, मगर यहां की घास इतनी स्वादिष्ट है कि एक बार खा लेने के बाद बार बार घास ही खाने को जी करता है। तुम भी क्यों नहीं आ जाती हो?“

बकरी के मुंह में पानी भर आया- धन्यवाद!”बकरी कहने लगी मैं भी थोड़ी घास खाऊंगी।“

अगले ही क्षण बकरी कुएं में कूद गई। मगर जैसे ही बकरी कुएं के भीतर पहुंची लोमड़ी बकरी की पीठ पर चढ़कर ऊपर उछली और कुएं से बाहर निकल गई।

”वाह! बकरी जी। अब आप जी भर कर घास खाइए, मैं तो चली।“

इस प्रकार वह चतुर लोमड़ी बकरी का सहारा लेकर खुद तो कुएं से बाहर आ गई लेकिन बकरी को कुएं में छोड़ दिया।

शिक्षा:-

हर किसी पर आंख मूंदकर विश्वास न करो।

online story in hindi – राधे राधे आपको हमारी प्रेरणादायक बातें पसंद आई तो किर्पया कमेंट में हमें जरूर बताएं और साथ मे इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर जरूर करें धन्यवाद ।

15 comments

    1. ÒM ÒM OM OM OM OM OM
      AAJ K DIN HUMLOG K JANM HUWA HAI JO HUMLOG K LIYE BYAKTITWA K LIYE BYAKTIGAT HAI LEKIN RATRI WAPIS AATA HAI
      SHIV SHARAN SHIV BARAN
      BHARAT MATA KI JAI
      MERA BHARAT MAHAN
      ÒM OM OM OM OM OM OM

  1. जया जी आप की कहानी मुझे बहुत पसंद आई जया जी हम बहुत जल्दी किसी के ऊपर विश्वास कर लेते हैं आपकी आवाज बहुत ही सुंदर है

  2. DEVI JAYAKISHORI JI MERA SADAR VANDAN SWIKAR KARE .VERY BEST EDUCATIVE STORY BUT APNE LOMADI JI BAKARI JI YE SAMBODHAN ACHHA KIYA .SMILE AA GAYI …JAY JAY SHRI RADHEKRISHNA JAY SHRI RADHE JAY SHRI RADHE JAY SHRI RADHE JAY SHRI RADHE .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *