बुजुर्ग महिला ने दिया शिवाजी को सफलता का मूलमंत्र

Posted on

बुजुर्ग महिला ने दिया शिवाजी को सफलता का मूलमंत्र

moral stories in hindi – यह वह दौर था जब छत्रपति शिवाजी आतातायियों के विरुद्ध छापामार युद्ध में लगे हुए थे, लेकिन उन्हें मनमुताबिक सफलता नहीं मिल रही थी। इसी क्रम में एक बार एक मुश्किल दिन बिताकर लौटते हुए वे जंगल में भटक गए और एक बुजुर्ग महिला की झोपड़ी के पास पहुंचे। भूख से व्याकुल शिवाजी ने महिला से भोजन देने का निवेदन किया। उस वनवासी वृद्धा के पास उस वक्त कोदों के अलावा और कुछ नहीं था। इसलिए उसने स्नेह-पूर्वक कोदों का भात पकाकर भटके सैनिक के सामने पत्तल पर परोस दिया।

शिवाजी उस समय भूख से बेहाल थे। भात देखकर उनसे रहा नहीं गया। खाने की आतुरता में उन्होंने तुरंत भात छुआ, जिससे उनकी उंगलियां जल गईं। मुंह से फूंक-फूंक कर वे जलन मिटाने की चेष्टा करने लगे। पास ही बैठी वृद्धा यह दृश्य देख रही थी। उससे रहा न गया और वह बोल पड़ी, ‘बेटा, तुम्हारी शक्ल तो शिवाजी से मिलती ही है, अक्ल भी वैसी ही लगती है- नासमझी से भरी हुई।’ यह सुनकर शिवाजी हैरान रह गए। उन्होंने पूछा, ‘आपको ऐसा क्यों लगता है कि शिवाजी नासमझ है? बाकी कई लोग, जिन्हें मैं जानता हूं, वे तो शिवाजी को बहुत बुद्धिमान मानते हैं।’

moral stories in hindi – बुजुर्ग महिला ने उत्तर दिया, ‘जब मैंने खाना दिया तो तुमने किनारे की ठंडी हो चुकी कोदों नहीं खाई, बल्कि बीच के गर्म भात में अपनी उंगलियां डाल दीं। ऐसे में उंगलियां तो जल

नी ही थीं। शिवाजी भी ऐसी नासमझी दिखा रहा है। वह दूर स्थित छोटे-छोटे किलों को जीतने की कोशिश करने की बजाय सीधे बड़े किलों पर विजय पाना चाहता है और मुंह की खाता है।’ वृद्धा की यह छोटी-सी बात शिवाजी के लिए बड़ा सबक साबित हुई। उन्होंने समझ लिया कि बड़े लक्ष्य पाने के लिए पहले छोटे लक्ष्यों को हासिल करना जरूरी है। इसी सबक ने आगे चलकर शिवाजी की सफलता की नींव का काम किया।

मित्रों अगर जानकारी अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ व्हाट्सएप में शेयर करना न भूलें धन्यवाद ।

19 comments

      1. ÒM ÒM OM OM OM OM OM
        JO ISHWAR K PUJTA HAI WO APNE AP K JANTA HAI KI EK DIN UNK SAKRATMAKTA K VISHWA APNAWEGA
        BHARAT MATA KI JAI
        MERA BHARAT MAHAN
        ÒM OM OM OM OM OM OM

  1. AN EDUCATIVE STORY .DEVI JAYAKISHORI JI MERA SADAR NAMAN SWIKAR KARE .IF YOU DONT MIND AND THEN SEND ME GOOD POETRY . THANKS . JAY JAY SHRI RADHEKRISHNA JAY SHRI RADHE JAY SHRI RADHE JAY SHRI RADHE .JAYAKISHORI JI AAP JIS DIN APNE SASURAL CHALI JAYENGI TO MAI BHI HAMESHA KE LIYE PUJY SADHGURU SHRI KRIPALU MAHARAJ JI KE ASHARAM CHALA JANUNGA .ABHI JUST 18 19 FEB.20 KO DO DIN RAHKAR AAYA HU .VAHAN BHI PURA RADHAMAYI BEHAD SHANDAR MAHOL HAI .PUJY GURU JI THE TAB KAI BAR VAHAN RAHKAR AA CHUKA HU .EK SATY JANA KI PUJY KRIPALU JI GURU NE MUJHE ASHIRWAD DIYA .UNKI ATMA AJAR AMAR HAI .YE SHRI RADHE SHRI RADHE KA MAHMANTRA APNE HI MUJHE KAI VARSHO PHLE HI DETDIYJ THA .APKE DARSHAN BHI MENE 3 4 BAR KAR LIYE KINTU KAFI DOOR SE .APKA GAYA PYAR BHARA YE GANA |KASME VADE PYAR VAFA SAB JHUTHHE HAI | SIRF 10 MINUTE RUKA OR CHALA AAYA .MERA ETNA SAMMAN KIYA GAYA KI MAI APKE PARIWAR SE HI HU KINTU MENE SAB SATY BATA DIYA KINTU FIR BHI VAHAN KE SABHI RADHEKRISHNA BHAKTO KA ETNA PYAR SAMMAN MILA KI YE MERE JIVANBHAR KE LIYE YADGAR PAL RAHENGE JO MENE APNI SPECIAL DIARY ME LIKH LIYA KI JAYAKISHORI KE DARSHAN KARNE MATR SE MUJHE ENTNA PYAR AUR SAMMAN MILA .EK BAR APKE SAMNE AKAR APKE DARSHAN KARU AUR VO TABHI SAMBHAV HOGA KI AAP APNE DIL SE MUJHE AANE KA ADESH KARENGI TO MAI ES DAFA APSE MILKAR ANUNGA .JAY JAY SHRI RADHEKRISHNA JAY SHRI RADHE JAY SHRI RADHE JAY SHRI RADHE .JAYA JI APSE MERI EK SHIKAYAT HAI KI POST TRY TO SEND ME ALWAYS .THANKS A LOT OF .

  2. ÒM ÒM OM OM OM OM OM
    JO ISHWAR K PUJTA HAI WO APNE AP K APNATA HAI EK DIN UNK VISHWA APNAWEGA
    BHARAT MATA KI JAI
    MERA BHARAT MAHAN
    ÒM OM OM OM OM OM OM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *