माँ के लिए एक भावनात्मक कहानी

Posted on

[pl_row]
[pl_col col=12]
[pl_text]

राह चलते एक आदमी फूलो की दुकान को देखते हुए अपनी गाड़ी को रोका और दुकानदार के पास गया और अपनी माँ के लिए फूल भेजने के लिए कूरियर भेजने का निवेदन किया इतने में एक छोटी बच्ची वहा आयी और उस आदमी से बोली “अंकल मै अपनी माँ के लिए लाल गुलाब खरीदना चाहती हु लेकिन मेरे पास 2 रूपये कम पड़ रहे है इसलिए अगर मेरी 2 रूपये की मदद कर दे तो मै इन फूलो को खरीद सकती हु”

यह सुनकर वह व्यक्ति मुस्कुराया और बोला ठीक है तुम खरीद लो 2 रूपये मै दे देता हु फिर जैसे ही वह व्यक्ति फूलो का आर्डर देने के पश्चात वहा से जाने लगा तो लड़की बोली आप आगे जा रहे है तो मुझे भी आप अपने गाड़ी से मेरे पास के छोड़ देना तो व्यक्ति उस लड़की को अपनी गाड़ी में बिठा लिया उअर कुछ देर चलने के बाद वह लड़की एक कब्रिस्तान के पास रुकी और बोली मेरी माँ यही रहती है इसके बाद वह लड़की कब्रिस्तान में जाने लगी तो उत्सुकतावश वह व्यक्ति भी उस लड़की के पीछे पीछे चल दिया तो देखा की एक कब्र पर वह लड़की फूलो को सजा रही है और फिर कब्र से लिपट गयी

जिसे देखकर उस व्यक्ति की आखे खुल गयी वह अब समझ चूका था की अपनों के खोने का क्या गम होता है और वह व्यक्ति तुरंत वहा से वापस फूलो की दुकान पर गया और अपना कूरियर का आर्डर निरस्त करके खुद फूलो का गुलदस्ता लेते हुए अपने हाथो से माँ को देने के लिए निकल पड़ा

नैतिक शिक्षा :-

हमारा जीवन छोटा है अप जिन्हें चाहते है जो कोई भी आपका हो उनके साथ अधिक से अधिक समय व्यतीत करे क्यूकी सबको अपनो के प्यार की जरूरत पड़ती है और ऐसा करने में हम देरी करते है तो क्या पता कब हम अपनों से दूर हो जाए और फिर अपनों का प्यार पाना नामुमकिन हो जाये इसलिए जीवन के प्रत्येक क्षण में जीवन का आनन्द ले क्यूकी आपके परिवार से बढकर कुछ भी महत्वपूर्ण नही है किर्पया अगर आपको पोस्ट अच्छी लगी तो किर्पया अपने दोस्तों परिजनों के साथ शेयर जरूर करें धन्यवाद ☺️
[/pl_text]
[/pl_col]
[/pl_row]

15 comments

  1. RadhaRani Maharani Ji main aapse milane ke liye ye maine Lalit bhaiya Ranu bhaiya ko bol rakha Lalit bhaiya ne kaha Ham jab bhi hamara program hoga tab Ham aapko program mein jarur bulayenge hamen aapka intezar hai aapka program hamare area mein kab ho

  2. RadhaRani Maharani Ji main jab bhi aapko dekhta hun meri mummy ki kasam mujhe a apnapan jaise aap mere relation mein mere kuchh lagte Ho aisa mahsus hota hai aapko dekh kar apnapan feel hota hai pata nahin kyon sharir mein main jaane aajati hai aapko dekh kar bahut Khushi e mahsus hoti hai

  3. BEHAD HI DIL KO CHU LENE VALI AUR EK ACHI SACHI SHIKSHAPRAD EK CHOTI SI KAHANI AUR BADI SIKH DENE WALI KAHANI HAI .SADR ABHAR .JAY JAY SHRI RADHEKRISHNA JAY SHRI RADHE JAY SHRI RADHE JAY SHRI RADHE JAY SHRI RADHE JAY SHRI RADHE .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *